सहजयोग के आधार भाग-3


1-आदिशक्ति माता की शक्ति

          य़दि आपको आदिशक्ति माता
जी के प्रति विश्वास है तो आपको किसी
भी प्रकार का भय नहीं होना चाहिए।जो भी
कार्य आपके हित में होगा वही माता जी करेंगी ।
जो भी आप कर रहे हैं निडरता पूर्वक करें ,    देवी
की सभी शक्तियॉ आप में अभिव्यक्त होने लगेंगी।
इस प्रकार आप आत्म निर्भर होने लगेंगे और इस
आत्मविश्वास का विकास होना भी आवश्यक है।
जब आप आत्मनिर्भर हो जॉय तो आप न केवल
अपनी सहायता कर सकते हैं बल्कि अन्य लोगों
की भी सहायता कर सकते हैं। मॉ की एक अन्य
शक्ति यह भी है कि वे  आपको  साक्षी  स्थिति
प्रदान कर देती है । आप  सभी  कुछ साक्षी  भाव
से देखते हैं,आपमें अथाह धैर्य आ जाता है,जो भी
होता   है  ठीक  है, क्रोध   नामक  भयानक   अवगुंण
से आपको छुटकारा प्राप्त हो जाता है,आपका व्यक्तित्व
अत्यन्त शॉतिमय हो जाता है  क्योंकि आपकी  मॉ  आपके
साथ होती है,इस दृढ विश्वास के साथ कि मॉ सदा हमारे साथ
हैं,हमारी रक्षा करती हैं ।।

2-निर्विचारिता में ईश्वरीय शक्ति पैदा होती है-

           जब आप निर्विचारिता में होते हैं तो आप
परमात्मा की श्रृष्ठि का पूरा  आनंद  लेने लगते  हैं,
बीच में कोई वाधा नहीं रहती है ।विचार आना हमारे
और सृजनकर्ता के बीच  की बाधा  है । हर  काम करते
वक्त आप  निर्विचार हो  सकते  हैं,  और  निर्विचार होते
ही उस काम की सुन्दरता,उसका सम्पूर्ण ज्ञान और उसका
सारा आनंद आपको मिलने लगता है ।।

3-चैतन्य लहरियों की नुभूति करें

             अपने शरीर में चैतन्य लहरियों की अनुभूति
करें। यह ह्दय मे प्रकाश की टिमटिमाती लपट है,जो हर
समय जलती रहती है। यह परमात्मा का प्रतिबिम्ब है।जब
कुण्डलिनी उठती है और ब्रह्मरन्द्र को खोलती है तो सदाशिव
के दर्शन होते है,प्रकाश दैदीप्यमान होता है,चैत्य लहरियॉ हमारे
अन्दर से बहने लगती हैं,ये चैतन्य लहरियॉ हमारे शरीर में बहने
वाली सूक्ष्म ऊर्जा का प्रवाह होना है ।यह तभी होता है जब कुण्डलिनी
ब्रह्मरन्द्र का भेदन कर ऊपर सदा शिव से मिलन होता है । ये चैतन्य
लहरियॉ हमें पूर्ण सन्तुलन प्रदान करती है,हमारी शारीरिक,मानसिक
एवं भावनात्मक समस्याओं का निवारण करती है। ये हमें परमात्मा से
पूर्ण आध्यात्मिक एकाकारिता का विवेक प्रदान करती है,तथा परमात्मा से
पूर्णतः एकरूप कर देती है ।

4-महानतम् आध्यात्मिक घटना का साक्षी

                      नारगोल का वृक्ष जो आज भी दृढतापूर्वक खडा
है,इसी पेड के नीचे 5 मई1970 को श्री माता जी ने अन्तिम चक्र
खोलने का दिव्य कार्य किया था,यह  जान  पाना  मानव  बुद्धि से परे
है कि स्वर्ग में किस प्रकार चीजैं कार्यान्वित होती हैं।यह हमारा सौभाग्य
और परमात्मा का प्रेम है कि यह आश्चर्यजनक चमत्कार घटित हुआ है।अगर
यह घटना न होती तो आज लोगों को आत्मसाक्षात्कार देने की कोई सम्भावना
न होती । इसमें रूसी सहजयोगियों द्वारा बनाई गई वैबसाइट पर चित्रों द्वारा इस
घटना को दिखाया गया है।

5-कुण्डलिनी ज्योतित रस्सी सम है

                  सहज योग अत्यन्त सूक्ष्म प्रक्रिया है, एस तथ्य
को बहुत थोडे लोग जानते हैं।  कुणडलिनी  छोटे-छोटे तन्तुओं
से बनी ज्योतितसम रस्सी सम है। सुषुम्ना नाडी अत्यन्त पतली
नाडी है,पापों और बुराइयों के कारण इतनी संकीर्ण  हो  जाती है कि
कुण्डलिनी के सूक्ष्म तन्तु ही इसमें से  गुजर सकते हैं  ।यह  अत्यन्त
सुक्ष्म और गहन प्रक्रिया है,मूलाधार से इस पतले  मार्ग में कमसे  कम
एक सूक्ष्म तन्तु गुजर सकता है, उसी एक तन्तु से ये ब्रह्मरन्द्र का भेदन
करती है।आरम्भ में अधिकतर लोगों में यह घटना आसानी से घट जाती
है, प्रकाश में देखने पर उन्हैं लगता है कि ये सब चीजों  उनके  अन्दर निहित
हैं आनंदित हो जाते हैं । लेकिन बोझ के दवाव से पुनः नीचे की ओर खिंच जाती
है,उन्हैं बहुत बडा झटका लगता है तब वे घबराकर संशयालु बन जाते हैं ।

6-आत्म साक्षात्कार के बाद की स्थिति

                  आत्म साक्षात्कार के बाद आप चक्रों की
तरह घूमते हुय़े बहुत से छल्ले देख सकते हैं। आत्मा
सभी तत्वों के कारण-कार्य़ सम्बन्धों से लीला करती है।
छल्लों के रूप में ये हमारे शरीर के पिछले   हिस्से से जुडी
है। सभी चक्रों एवं पावन अस्थि में इसका निवास है।ये सात
छल्ले बनाती है ।आत्म साक्षात्कार के पश्चात आप चक्रों के
इर्द-गिर्द घूमते हुये और एक छल्ले को  दूसरे  छल्ले  में  जाते
हुये बहुत से छल्लों को देख सकते हैं।कभी-कभीb तो  एक छल्ले
में बहुत से छल्ले और कभी एक छल्ले में चिंगारियों जैसे अर्धविराम
चिन्ह भी आप देख सकते हैं ।ये चेतन्य होता है ।ये मृत आत्मायें होती
हैं ।ये हमारे ऊपर ग्री क्षेत्र में प्रतिविम्बित होती है हाल ही में अमेरिका में
एक कोषाणु के ग्राही का फोटो लिया गया,ये बिल्कुल वैसा ही दिखाई दिया
जैसा आप आत्म साक्षात्कार के बाद देखते हैं । लेकिन व्यक्ति पर कोई अन्य
आत्मा बैठती है तो वह कोषाणु पर प्रतिविम्बित होती है।ये आत्मा किसी भी चक्र
से या सभी चक्रों से जुड सकती है।जुससे व्यक्ति अचेतन हो जाता है और मादकता,
मिर्गी, मस्तिष्क रोग तथा कैंसर आदि रोगों का कारण बनती है।

7-कुण्डलिनी जागरण गणेश के विना सम्भव नहीं है

              क्योंकि कुण्डलिनी गौरी शक्ति है और
गणेश जी हर क्षण उनकी रक्षा करने के  लिए  वहॉ
होते हैं, इतना ही नहीं,बल्कि कुण्डलिनी के  चक्र  भेदन
करने के बाद श्री गणेश उस चक्र को बन्द कर देते हैं, ताकि
कुण्लिनी फिर नीचे न चली जाय ।गणेश मूलाधार चक्र पर विराजमान
हैं ।बहुत से लोग गलती करते हैं ,क्योंकि त्रिकोणाकार मूलाधार में तो केवल
कुण्डलिनी का निवास है और इससे नीचे मूलाधार चक्र पर श्री गणेश विराजमान
हैं.वे इतने पावन अबोध हैं और कुण्डलिनी श्रीगणेश की कुमारी मॉ हैं ।

8–गलत विचार आने पर गणेश का आह्वान करें

                सहजयोगी हमेशा सोचें और जब-जब
भी गलत विचारों का सामना  करना  पडे,  तो उन्हैं
नियंत्रित करने के लिए गणेश की शक्तियों की याचना
करें प्रार्थना करें क्योंकि उनके कठोर परिश्रम और पावनता
के कारण ही मनुष्य इतनी  महान  ऊंचाइयों  को पार कर पाता
है जोकि व्यक्ति को वास्तव में स्वप्न जैसा दिखाई देता है। प्रारम्भ
में जिन्होंने मूलाधार पर श्री गणेश को देखा है उन्हैं गलतफहमी हुई
है और उन्होंने यह स्वीकार कर लिया कि यही मूलाधार है,  कुण्डलिनी
का निवास। इसी कारण तांत्रिकों ने बहुत सी समस्यायें उत्पन्न कर दी थी ।

9-मूलाधार चक्र सबसे अधिक शक्तिशाली है

                मूलाधार चक्र सबसे अधिक कोमल और
सबसे अधिक शक्तिशाली है इसकी बहुत सी  सतहें हैं
और बहुत से आयाम। यदि मूलाधार ठीक नहीं है  तो आपकी
याददास्त खराब हो जायेगी आपका विवेक गडबड हो  सकता  है।
आपमें दिशा विवेक नहीं रहेगा।अमेरिका में 40 वर्ष से कम उम्र में किसी
प्रकार का पागलपन रोग आ रहा है, इसका  कारण  मूलाधार चक्र  का  खराब
होना है ।बहुत से असाध्य रोग दुर्वल मूलाधार के कारण कारण आते हैं ।90प्रतिशत
मानसिक रोगी दुर्वल मूलाधार के कारण होते हैं।यदि व्यक्ति का मू लाधार शक्तिशाली
है तो उसे किसी भीप्रकार की तखलीफ नहीं होगी ।  आप  मस्तिष्क  को  दोष  देते हैं यह
मस्तिष्क के कारण नहीं बल्कि मूलाधार के कारण होता है। इसलिए मूलाधार के प्रति
विवेकशील रहें ।

10-अहं और क्षं बीज मंत्र है

                           क्षमा प्रार्थना आज्ञाचक्र का मंत्र हैं।हं
और क्षं इसके दो पक्ष हैं ।हं अर्थात ‘मैं हूं’ और     “क्षं‘अर्थात
‘मैं क्षमा करता हूं ‘।अतः जब आज्ञाचक्र पकडता है है तो आपको
कहना पडता है “ मै क्षमा करता हूं“आपके अन्दर यदि प्रति अहं है तो
भी आपको कहना होगा “मैं क्षमा करता हूं” ।यदि हमारे अन्दर प्रति अहं है
तो हमें कहना चाहिए ‘मैं हूं मै हूं’ तो ‘हं’ और ‘क्षं’ बीज मंत्र हैं।ये प्रार्थना के –क्षमा
प्रवचन के बीज हैं।

11-हमें हम (we)कहकर बात करनी चाहिए मैं(I)सम्बोधन से नहीं

             जब किसी चीज से अधिक लगाव होता है
तो मेरा,तेरा शव्द का प्रयोग होने लगता है, मेरा  घर
है मेरा शव्द  को  त्याग  देना  चाहिए, इसके स्थान पर
हम शव्द  का  प्रयोग  करें,  हम  अर्थात  सब एक  हैं, आप
उस  परमात्मा  के  अंग  प्रत्यंग हैं ? क्या  हम हम नहीं  हैं ?
क्या मैं अपनी अंगुली को ह्दय सेअलग कर सकता हूं ?अपना
तो इस पृथ्वी पर कुछ भी नहीं है? ये मेरा बच्चा है,मेरी पत्नी है ?
निसंदेह आपने अपनी पत्नी ,बच्चों की देख-भाल  करनी  है  क्योंकि
यह आपकी जिम्मेदारी है, लेकिन जितना आप अपने बच्चों के लिए करते
हैं उससे अधिक अन्य बच्चों के लिए भी करें ,आपको विश्वास करना होगा कि
आपका परिवार आपके पिता(परमात्मा)का परिवार है और आपकी मॉ (आदिशक्ति)
इसकी देख-भाल कर रही है । यदि आप सोचते हैं कि  आप  अपने  परिवार  की  देख-
भाल स्वयं कर रहे हैं तो-आगे बढकर देखें ?इसलिए अपने परिवार के बारे में अधिक
चिंतित नहों । किसी चीज को अपने तक सीमित न रखें, आप तभी करते हैं जब वह
करवाता है ।डोर तो उसके हाथ में है ।

12- सत्यखण्ड का प्रकाश

             यह वैसे गहन अध्यन का विषय है
कि मस्तिष्क  में जब  कुण्डलिनी  का  प्रकाश
आता है तो मस्तिष्क के माध्यम से सत्य को समझा
जा सकता है। इसी कारण इसे सत्य खण्ड कहा  जाता है,
अर्थात मस्तिष्क द्वारा समझे गये सत्य को आप देखने लगते
हैं।क्योंकि अभीतक मस्तिष्क द्वारा जो कुछ भी आप देख रहे थे
वह सत्य नहीं था,वह सिर्फ वाह्य पक्ष था। अपने मस्तिष्क द्वारा आप
दिव्यता के विषय में कुछ नहीं जान पाते हैं,जब तक कुण्डलिनी इस भाग
में नहीं पहुंच जाती किसी व्यक्ति को दिव्यता के बारे में जान पाना कठिन है,
कोई व्यक्ति सच्चा है या नहीं यह जान पाना कठिन है, जबतक आत्मा का प्रकाश
मस्तिष्क में चमकने न लग जाय।वैसे आत्मा की अभिव्यक्ति ह्दय में होती है अर्थात
आत्मा का केन्द्र ह्दय में होता है , लेकिन  वास्तव में आत्मा की पीठ ऊपर है,श्री माता
जी अपना दॉयॉ हाथ अपने सिरके ऊ पर  रखकर कहती  हैं  कि  यही  आत्मा है।  जिसे
हम सर्व शक्तिमान परमात्मा कहते हैं,सदा शिव,परवर्दिगार कहते हैं, जिस नाम से भी
भगवान को बुलाया जाता है,बुलाते हैं। जोकि प्रकाश के रूप में चमकने लगता है।

13-हमें स्वप्न कुण्डलिनी से आते हैं

                होता क्या है कि कुण्डलिनी मध्य
भाग में जुडी हुई नहीं है लेकिन इसके अन्दर
बीते हुये समय का पूरा लेखा-जोखा टेप होता है,
जब आप बहुत गहन सुषुप्त अवस्था में चले जाते हैं,
तब नीचे से प्रतीक उभरते हैं और नीली लाइन से होते
हुये आपके मस्तिष्क से गुजरते हैं,जिससे आप स्वप्न देखने
लगते हैं लेकिन सारे स्वप्न विकृत हो जाते हैं।उसमें अजीबोगरीव
प्रतीकात्मकता आ जाती है ।कभी- कभी तो आपके समझ में ही नहीं
आता कि क्या हो रहा है,एक प्रकार की मिली-जुली अभिव्यक्ति बन जाती है।
इसलिए सपनों पर विश्वास न करें ।

14-परमात्मा से कोई लेना देना नहीं है कौन कहता है

                जो लोग यह सोचते हैं कि मैं बेहत्तर
हूं परमात्मा से  मेरा  कोई  लेना- देना  नहीं  है,ऐसे
लोगो को बायें ओर के एकादश की समस्या हो जाती है,
जोकि बहुत खतरनाक होता है इन लोगों को दायें ओर के
ह्दयघात की समस्या हो जाती है। कुण्डलिनी के सहस्रार में
प्रवेश करने में एकादश रुद्र सबसे बडी समस्या है ।यह समस्या
भवसागर से आती है,इस प्रकार यह तालू क्षेत्र में भी प्रवेश करती है ,
गलत गुरुओं के पास गये हैं और बाद में सही निष्कर्ष पर न पहुंचने से
सहजयोग के प्रति समर्पित हुये हैं अपनी गलतियॉ स्वीकार कर कहते हैं कि
मैं स्वयं का गुरु हूं तो वे ठीक हो सकते हैंऔर जो लोग कहते हैं मैं सबसे ऊपर
हूं मैं परमात्मा में विश्वास नहीं करता परमात्मा कौन है, उसके अन्दर की समस्या
का निवारण भी हो सकता है कि वह नम्र होकर सहजयोग की परम चेतना में प्रवेश
करने का एक मात्र मार्ग स्वीकार कर लें।

15-शव्द बोलते हैं

                         हर शव्द का अपना महत्व है,और मंत्र
इन्हीं शव्दों  से  बनें  होते  हैं, जैसे  हमारे  शरीर  के  अन्दर
तीन देवियॉ विराजमान हैं महॉ काली, महॉलक्ष्मी, और सरस्वती
तो इन्हैं ऐं,हीं, क्लीं कहते हैं । इसी  प्रकार  ‘री’ र..र..शव्द  शक्ति  का
शव्द है। र जैसे राधा रा अर्थात शक्ति और धा धारण करने वाली जैसे राधा-
राम-और कृष्ण शव्द की उत्पत्ति कृषि शव्द से हुई कृ का   उच्चारण करते ही
विशुद्धि चक्र कार्यान्वित होने लगता है,इसलिए कृष्ण शव्द का उच्चारण करना
चाहिए, क्योंकि कृष्ण शव्द सीधा विशुद्धि चक्र से जुडा है, अतःकृष्ण नाम केवल उसी
का हो सकता है।क्षं शब्द का अर्थ है क्षमा करना। सहजयोग प्रेम का पथ है,प्रेम में अधिक
विश्लेषण करने की आवश्यकता नहीं है।छोटे से शव्द प्रेम को संमझ लेने मात्र से ही व्यक्ति
पंडित हो जाता है।वैसे अधिक पढ-पढकर पंडित भी मूर्ख बन जाता है ।

16-कुण्डलिनी जब उठती है तो स्वर उत्पन्न होते हैं

                   कुण्डलिनी जब उठती है तो स्वर उत्पन्न
करती है, सभी स्वरों के अलग-अलग अर्थ होते हैं ।  और
चक्रो पर जो स्वर सुनाई देते हैं उनका उच्चारण इस प्रकार है-
मूलाधार पर चार पंखुडियॉ हैं-निम्न स्वर हैं-व,श,ष,स-।स्वादिष्ठान
पर छः पंखुडियॉ हैं तो छः स्वर निकलते हैं-ब,भ,म,य,र,ल -मणिपुर पर
दस पंखुडियॉ हैं दस स्वर उत्पन्न होते हैं –ड, ढ,ण,त,थ,द,ध,न,प,फ-अनाहत
चक्र पर बारह पंखुडियॉ हैं-स्वर –क,ख,ग,घ,ड.च,छ,ज,झ,ञ,ट,ठ –।विशुद्धि चक्र-
सोलह पंखुडियॉ- सोलह स्वर अ,आ, इ,ई,उ, ऊ,श्र,रू, लृ,ए,ऐ,ओ,,अं,अः आज्ञा चक्र
में के स्वर-ह,क्ष -। सहस्रार पर पहुंचने पर साधक निवर्विचार हो जाता है और कोई
स्वर नहीं निकलता है शुद्ध स्पंदन ह्दय में होता है-लप-टप-लप- टप ।ये सारे स्वर
एकत्रित होकर इस समन्वय से उत्पन्न होने वाला स्वर ओं …होता है।सूर्य के सातों
रंग अंततः सफेद किरणें बन जाती हैं या स्वर्णिम रंग की किरणें ।

17-ह्दय मस्तिष्क के चंगुल में कैसे फंस जाता है

                   ह्दय सात चक्रों के सात परिमलों से
घिरा हुआ है और इसके अन्दर आत्मा निवास करती है ।
आपके सिर के शिखर पर सर्व शक्तिमान सदाशिव निवास
करते हैं ।कुण्डलिनी जब इस विन्दु को छूती है तो आपकी आत्मा
प्रसारित होने लगती है,और आपके मध्य नाडी तन्त्र पर कार्य करने
लगती है क्योंकि स्वतःचैतन्य लहरियॉ आपके मस्तिष्क में प्रवाहित होने
लगती है ,और आपकी नाडियों को ज्योतिर्मय करती है।परन्तु अभी भी ह्दय
में पहचान नहीं आई कि  आप  शीतल  लहरियॉ  महशूस  करने  लगते  हैं, आप
उस स्थिति में दूसरों की कुंण्डलिनी उठा सकते हैं,लोगों  को  रोग  मुक्त  कर  सकते
हैं तथा और भी बहुत से कार्य कर सकते हैं ।परन्तु अभी भी यह पहचान नहीं है क्योंकि
पहचान तॉ आपके ह्दय की मानसिक गतिविधि है ।यदि आप हिन्दू हैं तो श्री राम की फोटो
देखते ही आपका ह्दय पहचान लेता हैं।लेकिन एक ऐसे व्यक्ति को पहचानना बहुत कठिन
है जो आपके साथ रह रहा है ।ह्दय की गहनता में जाने के लिए क्या किया जाना चाहिए? ह्दय
के माध्यम से दिमाग के कार्य को किस प्रकार किया जा सकता है। आपको याद रखना होगा
कि ह्दय पूरी तरह से मस्तिष्क से जुडा हुआ है,  ह्दय  जब  रुक  जाता है  तो  मस्तिष्क  भी
रुक जाता है।सारा शरीर बेकार हो जाता है।कोई खतरा दिखने लगता है कि ह्दय धडकने
लगता है। आपके ह्दय में इसकी रचना करने के लिए आपको क्या अनुभव होना चाहिए ।
ये आपके अपने दिव्यत्व और आध्यात्मिकता का अनुभव है।एक बार जब आपमें यह
अनुभव विकसित होने लगता है तब आप जान पाते हैं  कि  आप  दिव्य  व्यक्ति  हैं ।
और जब तक आप पूर्ण रूपेण विश्वस्त नहीं होते कि आप दिव्य व्यक्ति हैं तो चाहे
जितनी क्षद्धा आपमें हो यह पहचान अधूरी है,क्योंकि मुझे पहचानने वाला व्यक्ति
अन्धा व्यक्ति है ।

18-श्री गणेश यदि हमें बुद्धि प्रदान करते हैं तो हनुमान सद्विवेक

              हम जब भी और जहॉ भी विद्युत
चुम्बकीय शक्ति को कार्य करते  हुये  देखते
हैं तो यह हनुमान के आशीर्वाद से  होता  है ।वे
ही विध्युत चुम्बकीय शक्तियों का सृजन करते हैं ।
अतः हम देख सकते हैं कि श्री  गणेश  जी  के   अन्दर
चुम्बकीय शक्तियॉ हैं वे चुम्बक हैं उनमें चुम्बकीय शक्ति
है पदार्थ की अवस्था में वे मस्तिष्क तक जाते हैं ।  मस्तिष्क
के विभिन्न पक्षों में सहसम्बंधों का सृजन  करते  हैं।अतः   गणेश
जी हमें बुद्धि प्रदान करते हैं तो श्री हनुमान हमें सद्विवेक प्रदान करते हैं ।

19-आत्मा जब आपके मस्तिष्क में पहुंचती है तो आप पच्च आयामी हो जाते हैं

             शिव आत्मा का प्रतिनिधित्व करते हैं
और आत्मा का निवास  आपके  ह्दय  में  है सदा
शिव का स्थान आपके सिर के    शिखर  पर  है  परन्तु
आपके ह्दय में प्रतिविम्बित होते हैं आपका मस्तिष्क विठ्ठल है
आत्मा को आपके मस्तिष्क में लाने का अर्थ आपके मस्तिष्क का
ज्योतिर्मय होना है।अर्थात परमात्मा का साक्षात्कार करने की आपके
मस्तिष्क की सीमित क्षमता का असीमित बनना आत्मा मस्तिष्क में आती
है तो आप जीवन्त चीजों का सृजन करते हैं।मृत भी जीवित की तरह से व्यवहार
करने लगता है।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s